चितो का गढ़ अब जाना जाएगा कूनो नेशनल पार्क (Kuno National Park) के नाम से


मोदी जी के जन्म दिन के अवसर पर मध्यप्रदेश को एक उपहार मिला जो कूनो नेशनल पार्क (Kuno National Park) से जाना जाएगा ।17 सितंबर मोदीजी का जन्म दिवस हर साल कुछ खास बनता है हर साल कुछ नया ही उपहार हमारे देश को भेट स्वरूप मिल रहा है।

ऐसे मैं नामीबिया (Namibia) से चीतो को पिंजरों मैं रखकर हवाई माध्यम से मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) लेकर आना और एक नया नेशनल पार्क देश में स्थापित करना यह देश के लिए गर्व की बात है। नामीबिया से कुल 8 चीते लाये गए। जिन्हे 17 सितंबर को मोदीजी के द्वारा कूनो नेशनल पार्क (Kuon National Park) मैं छोड़ा गया । चीतों का नया घर होगा।

भारत देश मैं अब तक के नेशनल पार्क मैं एक और नाम जुड़ जायेगा। चितो की प्रजाति भारत मैं से अलुप्त हो चुकी थी जिसे फिर से कूनो नेशनल पार्क (Kuon National Park) में स्थापित की जा रही है। जिन्हें नामीबिया के CCF चिता कंजर्वेशन फंड से 8 चितो को पिंजरे के कंटेनर मैं रखकर नामीबिया (Namibia) की राजधानी विडहोक के नजदीकी एयरपोर्ट से भारत के ग्वालियर (Gwalior) एयरपोर्ट पर लाया गया। CCF चिता कंजर्वेशन फंड ने ऐसे पिंजरे और कंटेनर बनाए जिससे पिंजरे मैं रह रहे चीतो को पता ही नही चलेगा की वह एक जगह से दूसरी जगह ले जा रहे होंगे। यह चीते आज सुबह 6 बजे तक ग्वालियर (Gwalior) एयरपोर्ट पर आ चुके। जिन्हे वायु सेना के हेलीकॉप्टर के माध्यम से कूनो नेशनल पार्क तक शिफ्ट किया गया। जिन्हे देश के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के हस्तगत कूनो नेशनल पार्क (Kuon National Park) मैं 17 सितंबर को छोड़ा जाएगा।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय वन मंत्री और राज्य के वन मंत्री भी उपस्थित रहे जिन्होंने शुक्रवार रात को ही कूनो नेशनल पार्क का जायजा लिया था।


Leave a Reply

Your email address will not be published.