बढ़ती उम्र पर ब्रेक लगा सकते हैं ये 5 तरह के जूस, हमेशा दिखेंगे जवां


क्या आप जानते हैं कई चमत्कारी फलों का जूस तेजी से बढ़ती उम्र पर ब्रेक लगा सकते हैं. डेली डाइट में इनका सेवन करने से आप लंबे समय तक जवां और खूबसूरत दिख.

ताजे फलों का जूस पीने से हमें वो तमाम पोषक तत्व मिल जाते हैं जिनकी हमारे शरीर को जरूरत होती है. यह ना सिर्फ स्वाद में बेहतरीन होता है, बल्कि इससे शरीर को कई बड़े फायदे भी होते हैं. क्या आप जानते हैं चमत्कारी फलों का जूस तेजी से बढ़ती उम्र पर भी ब्रेक लगा सकते हैं. डेली डाइट में इनका सेवन करने से आप से आप लंबे समय तक जवां और खूबसूरत दिखेंगे.

अनार का जूस- अनार के जूस में पॉलीफेनल्स जैसे कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं. ये इनफ्लेमेशन की समस्या, कैंसर और ब्लड प्रेशर जैसी दिक्कतें दूर करने में कारगर है. अनार शरीर के एजिंग सेल्स को भी प्रभावित करता है. 50 साल की उम्र के बाद हमारी कोशिकाएं माइटोकॉन्ड्रिया की रीसाइक्लिंग के साथ संघर्ष करना शुरू कर देती हैं, जिसका असर सीधा हमारी मांसपेशियों पर पड़ता है. शरीर में जब ऐसी दिक्कत होती है तो पार्किंसन की बीमारी का खतरा भी बढ़ जाता है. अनार में यूरोलिथिन नाम का तत्व आपके माइटोकॉन्ड्रियल प्रोसेस को हेल्दी बनाए रखने का काम करता है.

गाजर का जूस- गाजर में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद माने जाते हैं. इसमें मौजूद ल्युटीन हमारी आंख और ब्रेन फंक्शन के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. गाजर में बीटा कैरोटीन नाम का भी पोषक तत्व पाया जाता है. ये एक ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जिसे आपका शरीर विटामिन-ए में कन्वर्ट करता है. कैंसर एपिडेमायोलॉजी, बायोमार्कर्स एंड प्रीवेंशन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीटा कैरोटीन नौजवनों में प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम भी कम करता है.

चकुंदर का जूस- चकुंदर का जूस कुछ लोगों को पसंद आता है, लेकिन कुछ इससे दूर भागते हैं. शायद आपको मालूम नहीं कि चकुंदर का जूस हमारे एजिंग प्रोसेस को स्लो करने का काम करता है. रिडॉक्स बायोलॉजी की एक स्टडी के अनुसार, चकुंदर के जूस में पाए जाने वाले कई तरह के बैक्टीरिया हमारी दिल की सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. चकुंदर का जूस पीने के बाद लोगों के ब्लड प्रेशर लेवल में सुधार देखा गया है.

पिंक ग्रेपफ्रूट जूस- कैरटेनॉइड ऐसे कम्पाउंड होते हैं जो फल और सब्जियों को उनका नैचुरल कलर देने का काम करते हैं. कैरटेनॉइड एजिंग प्रोसेस की रफ्तार को कम करने का काम करता हैं. पिंक ग्रेपफ्रूट में भी लाइकोपीन नाम का कैरटेनॉइड होता है. लाइकोपीन हमारी स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है. एक स्टडी में इससे स्किन पर पड़ने वाले प्रभाव का भी पता चला है. अमेरिकन जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, लाइकोपीन शरीर में कोलेस्ट्रोल लेवल को कंट्रोल रखता है जिसका सीधा फायदा हमारे दिल की सेहत पर पड़ता है.

व्हीटग्रास जूस- व्हीटग्रास यानी गेंहूं की ज्वार का जूस स्वाद में बहुत बेहतरीन नहीं होता है. लेकिन इससे शरीर को होने वाले फायदे और एंटी एंजिंग प्रॉपर्टीज के बारे में जानकर आप यकीनन इसे अपनी डाइट में शामिल कर लेंगे. इसमें काफी ज्यादा मात्रा में क्लोरोफिल होता है जो बहुत सारे पौधों को हरा रंग देने का काम करता है. इसमें एक ताकतवर एंटी-इनफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी भी होती है जो वयस्कों में बीमारियों के जोखिम को कम करती हैं और उनकी ओवरऑल हेल्थ में में सुधार लाती है.


Leave a Reply

Your email address will not be published.